Search
Close this search box.

Follow Us

पलायन और रोजगार की दृष्टि से बिहार की उधमिता की तरफ तेजी से बढ़ते कदम

बिहार औद्योगिक उडान के लिए तैयार है
दिनांक 05.12.2023 को विकास भवन स्थित उद्योग विभाग के सभाकक्ष में प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। इस प्रेस वार्ता में सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के माननीय मंत्री श्री संजय कुमार झा तथा उद्योग विभाग के माननीय मंत्री श्री समीर कुमार महासेठ व् विभागीय अधिकारियों द्वारा दिनांक 13-14 दिसम्बर 2023 को पटना के ज्ञान भवन में बिहार बिजनेस कनेक्ट 2023 (ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट) की विस्तृत जानकारी प्रेस प्रतिनिधियों से साझा की गई। इस क्रम में उद्योग विभाग के माननीय मंत्री श्री समीर कुमार महासेठ ने कहा कि इस आयोजन का एक प्रमुख मकसद, उद्यमियों को बिहार की विभिन्न औद्योगिक नीतियों से रू-ब-रू कराना भी है। इसलिए यहां उद्योग लगाएं और निवेशक अनुकूल औद्योगिक नीतियों का लाभ उठाएं। बिहार सरकार ने ऐसी नीतियां बनायी हैं जिससे निवेशक आकर्षित हो रहे हैं। इन नीतियों का एक ही उद्देश्य है कि निवेशकों को अधिक से अधिक फायदा मिले।
कारोबारियों और खास कर निर्यातकों की सुविधा को ध्यान में रख कर राज्य सरकार ने बिहार लॉजिस्टिक नीति 2023 बनायी है। इस नीति के तहत निजी क्षेत्र में इनलैंड कंटेनर डिपो की स्थापना को प्रोत्साहित किया जा रहा है। पटना के पास बिहटा में एक इनलैंड कंटेनर डिपो शुरू करने की कोशिश चल रही है। निर्यातकों को अपने उत्पाद कंटेनर डिपो तक लाना होगा जहां से उन्हें कस्टम क्लीयरेंस और अन्य सरकारी मंजूरी मिल जाएगी। इनलैंड कंटेनर डिपो में कस्टम अधिकारियों की तैनाती रहेगी जिससे क्लीयरेंस का काम सहज हो जाएगा। राज्य सरकार चाहती है कि निजी क्षेत्र में कम से कम चार पांच और इनलैंड कंटेनर डिपो का निर्माण हो। लॉजिस्टिक पॉलिसी के तहत कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया को भी जोड़ने की तैयारी है। कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के जरिये रेल द्वारा माल की ढुलाई होती है। साथ ही साथ मौजूदा भंडारण इकाइयों और लॉजिस्टिक के बुनियादी ढांचे को विकसित किया जा रहा है।
टेक्सटाइल और लेदर सेक्टर में निवेश के लिए टेक्सटाइल एंड लेदर पॉलिसी 2022 एक महत्वपूर्ण पहल है। इस नीति के लागू होने से राज्य में निवेशकों को काफी प्रोत्साहन मिला है। इस नीति के लागू होने के बाद मुजफ्फरपुर में बैग कलस्टर शुरू हुआ। बैग कल्स्टर में 1100 से अधिक औद्योगिक सिलाई मशीनों पर कपड़े के बैग बनाये जा रहे हैं। मुजफ्फपुर और पटना जिले में भी 1000 से अधिक औद्योगिक सिलाई मशीनों पर कपड़े का बैग बनाने वाली इकाइयां स्थापित हुईं हैं। इसके अलावा मुजफ्फरपुर में RSCS इंटरनेशनल, V2 जैसी कंपनियां, वस्त्र उत्पादन कर रही हैं।
लेदर सेक्टर में सावी लेदर कंपनी मधुबनी में 100 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजना लगा रही है। टेक्सटाइल एंड लेदर सेक्टर में उद्योग लगाने पर अधिकतम 10 करोड़ रुपये का पूंजीगत अनुदान भी दिया जा रहा है। इसके अलावा बिजली, रोजगार और माल भाड़ा से संबंधित अनुदान भी दिये जाते हैं।
बिहार, इथेनॉल उत्पादन प्रोत्साहन नीति लाने वाले देश का पहला राज्य है। राज्य में इथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए बिहार बायोफ्यूएल्स उत्पादन प्रोत्साहन नीति 2023 एक नवीनतम कदम है। इस नीति के तहत कम्प्रेस्ड बायोगैस के उत्पादन को भी बल मिला है। वैकल्पिक ईंधन का जितना अधिक उत्पादन होगा, खनिज तेलों पर निर्भरता उतनी ही कम होगी। बिहार में अभी इथेनॉल के 8 इकाइयां चालू हैं। निकट भविष्य में सात और खुलने वाली हैं। इथेनॉल उत्पादन में बिहार देश के अग्रणी राज्य के रूप में उभर रहा है। राज्य के औद्योगिक परिदृश्य को बदलने में बिहार इंसेंटिव नीति 2011 और बिहार औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन नीति 2016 ने भी खास भूमिका अदा की है।
सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के माननीय मंत्री श्री संजय कुमार झा ने कहा कि बिहार बिजनेस कनेक्ट 2023, राज्य में निवेश के अवसरों की पहचान के लिए एक बड़ा मंच साबित होगा। यह राज्य अब औद्योगिक निवेश के लिए एक आदर्श गंतव्य बन चुका है। यहां निवेश के लिए अनुकूल और उपयुक्त माहौल है। यहां उद्योग लगाना इसलिए भी आसान है क्यों कि आधारभूत संरचना सहज रूप से उपलब्ध है। बिहार देश का सबसे युवा राज्य है। यहां 53 फीसदी आबादी 35 साल से कम उम्र की है। यह युवा कार्यबल किसी भी उद्योग की स्थापना में अहम भूमिका निभा रहा है। राज्य सरकार ने हाल के वर्षों में सैकड़ों कामगारों को प्रशिक्षण देकर उन्हें कुशल और योग्य बनाया है। अब यहां कुशल और अर्द्धकुशल श्रमिकों की एक बड़ी तादाद है। सस्ता और उपयुक्त कार्यबल उपलब्ध होने से तुलनात्मक रूप से उत्पादन की लागत कम हो जाती है जो व्यापार के लिए बहुत ही अच्छा है। सस्ता श्रम उद्यमियों के लिए एक प्रमुख आकर्षण है।
इतना ही नहीं, बिहार में मौजूद आइआइटी, आइआइएम, एनआइटी और 38 इजीनियरिंग कॉलेजों से पासआउट युवाओं का एक मेधावी कार्यबल भी है जो उद्यमों को तकनीकी रूप से मजबूत करने में मदद कर रहा है। चूंकि बिहार ज्ञान और प्रौद्योगिकी पर आधारित एक नयी अर्थव्यवस्था की और अग्रसर है, इसलिए ज्ञान से भरा हुआ युवा वर्ग, हमारी ताकत है। यहां सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में निवेश, एक लाभकारी विकल्प है। बिहार में कानून का शासन है। विधि-व्यवस्था बिल्कुल सुदृढ़ है। साथ ही साथ राज्य सरकार, उद्मियों को हर सहयोग और संरक्षण के लिए कृतसंकल्पित है। इसलिए उद्यमी यहां कामयाबी के साथ अपने कारोबार का संचालन कर रहे हैं। बिजली और सड़क निर्माण के क्षेत्र में बिहार ने एक बड़ी छलांग लगायी है। अब यहां सातों दिन चौबीसों घंटे बिजली उपलब्ध है। उद्योग के लिए बिजली जरूरी है जो तुरंत ही मिल जाती है। इतना ही नहीं, राज्य सरकार उद्मियों को बिजली सब्सिडी भी देती है।
सड़क और पुल-पुलियों के लगातार निर्माण के कारण बिहार यातायात के एक नये युग में प्रवेश कर चुका है। पिछले 10 वर्षों के दौरान यहां सड़कों की लंबाई में 130 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। सड़क घनत्व के मामले में बिहार देश का तीसरा राज्य बन चुका है। अब राज्य के किसी भी जिला मुख्यालय से पटना सिर्फ पांच घंटे में पहुंचा जा सकता है। रेलमार्ग और वायुमार्ग के विस्तार से यातायात की सुविधा अब और अधिक बढ़ गयी है। जल मार्ग का भी परिदृश्य बदल रहा है। हाल ही में व्यापारिक उद्येश्य से पटना और कोलकाता के बीच एक जलसेवा शुरू करने पर विचार-विमर्श चल रहा है। जैसा कि विदित है, व्यापार के लिए जल परिवहन सेवा सबसे सस्ता है। उद्योग लगाने के लिए पानी भी चाहिए और इस मामले में यह राज्य प्राकृतिक रूप से धनी है। यहां 75 औद्योगिक क्षेत्र हैं जहां हमेशा बिजली पानी की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित है।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार ने उल्लेखनीय आर्थिक तरक्की की है। कानून व्यवस्था, सड़क, बिजली, पानी के क्षेत्र में लगातार प्रगति से बिहार को एक नयी पहचान मिली है। अब उनके नेतृत्व में यह राज्य औद्योगिक विकास के लिए संकल्पित है।
उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री संदीप पौंडरिक ने जानकारी दी कि माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार 12 दिसम्बर 2023 को बिहटा के सिकंदरपुर में प्लग एंड प्ले शेड एवं ब्रिटानिया के फ़ूड प्रोसेसिंग यूनिट का उदघाटन करेंगे। पिछले कुछ वर्षों में बिहार सरकार ने अपनी नीतियों, पारदर्शिता, विभिन्न परियोजनाओ के लिए अनुदान और निरंतर सहयोग की भावना से राज्य के औद्योगिक परिदृश्य को बदल दिया है। बिहार के बदले हुए औद्योगिक परिदृश्य से उद्मियों को रू-ब-रू कराने के लिए इस दो दिवसीय मेगा इवेंट का आयोजन किया गया है।
इस आयोजन को सफल बनाने के लिए उद्योग विभाग द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका, ढाका (बांग्लादेश), दुबई (यूएई), ताइवान और जापान में इन्वेस्टर्स मीट आयोजित किया गया और वहां के निवेशकों को बिहार में निवेश तथा बिहार बिजनेस कनेक्ट 2023 में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया। देश के सात बड़े औद्योगिक शहरों – नई दिल्ली, चंडीगढ़, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरूप्पुर और कोलकाता में रोड शो आयोजित किया गया। विभिन्न इन्वेस्टर मीट में देश-विदेश और प्रदेश के 600 से अधिक उद्यमी शामिल हुए।
बिहार बिजनेस कनेक्ट 2023 में 22 से अधिक देशों के प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है. (USA, Germany, Hungry, UAE, Hongkong, Japan, Taiwan, Bangladesh, Viatnam, Russia) बिहार बिजनेस कनेक्ट 2023 के पहले दिन प्राथमिकता वाले चार उद्योगों (टेक्सटाइल, फूड प्रोसेसिंग, आइटी/आइटीईएस/ईएसडीएम और जनरल मैन्युफैक्चरर) पर चर्चा होगी जिसमें भाग लेने के लिए सात मंत्रियों को आमंत्रित किया गया है। दूसरे दिन मुख्य सत्र का आयोजन किया गया है, जिसमें माननीय मुख्यमंत्री, माननीय उपमुख्यमंत्री एवं अन्य मंत्रीगण शामिल होंगे। दोनों दिन उद्यमियों के साथ बी टू बी बैठक का आयोजन किया जायेगा। बिहार बिजनेस कनेक्ट 2023 के दौरान निवेश के अनेक प्रस्तावों पर भी सहमति होगी और हस्ताक्षर किये जायेंगे। बिहार में अपनी तरह का यह सबसे बड़ा आयोजन है।बिहार औद्योगिक उडान के लिए तैयार है। बिहार बिजनेस कनेक्ट 2023 के आयोजन से राज्य के औद्योगिक विकास को और रफ्तार मिलेगी।

Jameeni Hakikat
Author: Jameeni Hakikat

Leave a Comment

Read More

पिछले 24 घंटे में राज्य के 09 जिलों में वज्रपात से 10 लोगों की मौत पर मुख्यमंत्री ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की,मृतकों के आश्रितों को चार-चार लाख रूपये अनुग्रह अनुदान देने का मुख्यमंत्री ने दिया निर्देश

पिछले 24 घंटे में राज्य के 06 जिलों में वज्रपात से 09 लोगों की मौत पर मुख्यमंत्री ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की,मृतकों के आश्रितों को चार-चार लाख रूपये अनुग्रह अनुदान देने का मुख्यमंत्री ने दिया निर्देश