Search
Close this search box.

Follow Us

मुख्यमंत्री ने की सात निश्चय – 2 के तहत ‘हर खेत तक सिंचाई का पानी निश्चय योजना’ की समीक्षा, लक्ष्य के अनुरूप तेजी से कार्य पूर्ण करने के दिये निर्देश

मुख्यमंत्री ने की सात निश्चय – 2 के तहत ‘हर खेत तक सिंचाई का पानी निश्चय योजना’ की समीक्षा, लक्ष्य के अनुरूप तेजी से कार्य पूर्ण करने के दिये निर्देश

‘हर खेत तक सिंचाई का पानी निश्चय योजना’ को तेजी से पूर्ण करें ताकि किसानों को सिंचाई में सहूलियत हो।

हर खेत तक सिंचाई का पानी निश्चय योजना से संबद्ध विभाग अपने-अपने विभागों की योजनाओं की समीक्षा कर तेजी से पूर्ण करे।

हर घर तक नल का जल पहुंचाया गया है ताकि लोगों को शुद्ध जल मिलता रहे। हर खेत तक सिंचाई के लिए पानी पहुंचने से किसानों को कृषि कार्य में काफी सुविधा होगी।

जल संचयन क्षेत्र में वृद्धि के लिये जो योजना बनायी गयी है, उस पर तेजी से काम करें। पहाड़ी के तलहट्टी क्षेत्रों में भी जल संचयन क्षेत्र को विकसित करें।

भू-जल स्तर को मेंटेन रखने और पर्यावरण को बढ़ावा देने के लिये भी कई कार्य किये गये हैं, उन कार्यों की सतत् निगरानी करते रहें।

पटना, 07 दिसम्बर 2023 :- मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने 1 अणे मार्ग स्थित ‘संकल्प’ में सात निश्चय-2 के तहत ‘हर खेत तक सिंचाई का पानी योजना की समीक्षात्मक बैठक की और लक्ष्य के अनुरूप तेजी से कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिये।
बैठक में अपर मुख्य सचिव जल संसाधन एवं लघु जल संसाधन श्री चैतन्य प्रसाद ने मुख्यमंत्री के समक्ष दिए गये अपने प्रस्तुतीकरण में सात निश्चय-2 के तहत हर खेत तक सिंचाई का पानी निश्चय योजना की दिशा में किये जा रहे कार्यों की प्रगति की विस्तृत जानकारी दी। ऊर्जा विभाग, कृषि विभाग एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों ने भी हर खेत तक सिंचाई का पानी योजना के तहत अपने-अपने विभागों में किये जाने वाले कार्यों की प्रगति की जानकारी दी।

बैठक में अधिकारियों को निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2015 से 2020 में सात निश्चय-1 योजना को पूर्ण किया गया। वर्ष 2020 2025 के लिए सात निश्चय-2 योजना पर काम किया जा रहा है। हर खेत तक सिंचाई का पानी, लक्ष्य के अनुरूप निर्धारित समय के अंदर पहुंचे, इसको लेकर तेजी से काम करें। जितनी जल्द हो सके हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचा दें। उन्होंने कहा कि लोगों की सुविधाओं के लिये और उनके हित में हम निरंतर काम करते हैं, किसानों के हित में लगातार काम करते रहेंगे। भू-जल स्तर को मेंटेन रखने और पर्यावरण को बढ़ावा देने के लिये भी कई कार्य किये गये हैं। जल के संरक्षण और हरियाली को बढ़ावा देने के लिये वर्ष 2019 में जल-जीवन-हरियाली अभियान की शुरूआत की गयी है। जल और हरियाली है तभी सभी का जीवन सुरक्षित है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली बैठकों में हर खेत तक सिंचाई निश्चय योजना के संबंध में एक-एक बात पर चर्चा हुई थी। उन्होंने कहा कि संबद्ध अधिकारियों और अभियंताओं के साथ बैठक कर तेजी से काम को आगे बढायें, स्थल पर भी जाकर किये जा रहे कार्यों के अद्यतन स्थिति की समीक्षा करें। कार्यों की प्रगति का जायजा लेने के लिये हम स्वयं स्थलीय निरीक्षण करेंगे। हर हाल में हर खेत तक सिंचाई का पानी निश्चय योजना’ को वर्ष 2025 के पूर्व पूर्ण करें।

बैठक में ऊर्जा सह योजना एवं विकास मंत्री श्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, वित्त, वाणिज्य कर एवं संसदीय कार्य मंत्री श्री विजय कुमार चौधरी, जल संसाधन मंत्री श्री संजय कुमार झा, ग्रामीण विकास मंत्री श्री श्रवण कुमार, कृषि मंत्री श्री कुमार सर्वजीत, लघु जल संसाधन मंत्री श्री जयंत राज, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री दीपक कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ० एस० सिद्धार्थ, अपर मुख्य सचिव जल संसाधन एवं लघु जल संसाधन विभाग श्री चैतन्य प्रसाद, ग्रामीण विकास विभाग के सचिव डॉ० एन० सरवन कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव श्री अनुपम कुमार, सचिव वित्त (व्यय) श्री लोकेश कुमार सिंह, कृषि विभाग के निदेशक श्री आलोक रंजन घोष, साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कम्पनी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक श्री महेन्द्र कुमार, लघु जल संसाधन विभाग की विशेष सचिव श्रीमती आसिमा जैन सहित अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे।

Jameeni Hakikat
Author: Jameeni Hakikat

Leave a Comment

Read More

पिछले 24 घंटे में राज्य के 09 जिलों में वज्रपात से 10 लोगों की मौत पर मुख्यमंत्री ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की,मृतकों के आश्रितों को चार-चार लाख रूपये अनुग्रह अनुदान देने का मुख्यमंत्री ने दिया निर्देश

पिछले 24 घंटे में राज्य के 06 जिलों में वज्रपात से 09 लोगों की मौत पर मुख्यमंत्री ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की,मृतकों के आश्रितों को चार-चार लाख रूपये अनुग्रह अनुदान देने का मुख्यमंत्री ने दिया निर्देश